शनिवार, 24 जनवरी 2009

नागार्जुन की कविता

मेघ बजे

धिन-धी-धा धमक-धमक
मेघ बजे
दामिनि यह गयी दमक
मेघ बजे
धरती का ह्दय धुला
मेघ बजे
पंक बना हरिचन्दन
मेघ बजे
हल का है अभिनन्दन
मेघ बजे।
धिन-धिन-धा धमक-धमक
मेघ बजे।

8 टिप्‍पणियां:

निर्मला कपिला ने कहा…

bahut hi sunder abhivyakti hai bdhai

Unknown ने कहा…

mujhe aaak ke blog par dot hee nazar aa rahe hain.kuchh nahin paDh paayaa.

makrand ने कहा…

wah dost bahut badia

Akanksha Yadav ने कहा…

इस गणतंत्र दिवस पर यह हार्दिक शुभकामना और विश्वास कि आपकी सृजनधर्मिता यूँ ही नित आगे बढती रहे. इस पर्व पर "शब्द शिखर'' पर मेरे आलेख "लोक चेतना में स्वाधीनता की लय'' का अवलोकन करें और यदि पसंद आये तो दो शब्दों की अपेक्षा.....!!!

Bahadur Patel ने कहा…

nagarjun bahut hi achchhe kavi the. aur ve bachchon ko bahut pyar karate the. ve ghumate bahut the isliye unaka rachana sansar bhi bahut vyapak tha.
yah kavita bahut majedaar to hai hi lekin isake bahut gahare arth bhi hain.
bahut achchha kar rahe ho.
aur padho aur post karo.

के सी ने कहा…

kabhi khud likho, shabdon ko todo marodo aur unki akad nikaalo fir ve tumhaaraa saath denge, main prateeksha karta hoon agli post kee.

saloni ने कहा…

bahut hi pyaari kavita he.isi tarah likhte rahe,meri shubhkamnaaye aapke sath.
@@@@{''HAPPY REPUBLIC DAY''}@@@@

निर्मला कपिला ने कहा…

aji yahan bhi aaj megh garaj baras rahe hain sunder rachnahai